सपने देखने वाले

साहसी

सपने देखने वाले

साहसी

दुनिया में सबसे बड़े आंदोलन असाधारण कार्यों का प्रयत्न करने वाले सामान्य लोगों द्वारा आरम्भ किये गये हैं. चक्र, घोषणा टिप्पणी, और खोज करने के कौशल भी. हम वह टीम हैं जो क्वैट में मानसिक रूप से लीन होकर असाधारण को पाने के लिये कार्य करती है.

यह सारा बहुमूल्य कार्य होता कैसे है ?
विज्ञापनों द्वारा कमाये गये 100% असल लाभ दान कर दिये जाते हैं.
हम चैरिटी विद अ ट्विस्ट हैं.

हमारी परिकल्पना

 

ये सब मुहैया कराने के लिये परिकल्पना के साथ सामाजिक व्यवसायिक पारिस्थितिक तंत्र / सोशल बिज़नेस इकोसिस्टम का निर्माण करना:

1. भोजन, वस्त्र, शरण स्थल, स्वास्थ्य की देख-रेख, और सबके लिये इंटरनेट, मुफ्त में 

2. पशुओं के लिये बेहतर देख-भाल और रहने की व्यवस्था

3. एक अधिक स्वच्छ, धारण करने योग्य परिवेश / वातावरण

हमारा लक्ष्य

 

एक डिजिटल प्लेटफॉर्म बनाना जो उपभोक्ताओं को बिना पैसा खर्च किये एनजीओज़ के लिये धन इकट्ठा करने में समर्थ बनाता है.
उसी प्लेटफॉर्म पर परोपकारी पुरस्कार, निशुल्क मनोरंजन और सोशल मीडिया प्रदान करके उपभोक्ताओं का और अधिक प्रोत्साहन बढ़ाना.

हमारी मान्यताएं

 

100% परोपकारी: हर चीज़ जो क्वैट करता है, वह रचना और परिणाम में हमेशा परोपकारी होगा.
100% पारदर्शी: क्वैट पूरी पारदर्शिता के साथ व्यवसाय का संचालन करता है, इस बात को सुनिश्चित करते हुए कि सबके लिये पूरी जानकारी उपलब्ध हो, निशुल्क.

हमारा सिद्धांत

 

सामाजिक कल्याण और समुदाय क्वैट की बुनियादी प्रेरक शक्तियाँ हैं जिनकी वजह से एक हानिकारक सामाजिक प्लेटफॉर्म का जन्म हुआ, जिससे एनजीओज़ के लिये चंदा इकट्ठा करने के लिये व्यवसाय और लोग एकजुट हुए. हम जानते हैं कि डिजिटल मीडियम का उपयोग करने और उसकी निरंतर बढ़ती हुई पहुँच का लाभ उठाने के लिये इससे बेहतर समय नहीं है. 

पर्याप्त समय, साधनों और सबसे ज़रूरी निष्ठा के साथ, भारत में समृद्धि लाने के लिये क्वैट का लक्ष्य एक चिरस्थायी / हमेशा रहने वाले और दीर्घकालिक / लम्बे समय तक चलने वाले समाधान निकालना है. 

क्वैट पर, ऐसे विज्ञापन देखिये और भलाई कीजिये.

क्वैट पर, ऐसे विज्ञापन देखिये और भलाई कीजिये.

धन्यवाद का हमारा सिलसिला यहीं समाप्त नहीं होता.

हमारा सफर हमारे क्वैट परिवार द्वारा हमारा समर्थन करने और हमें प्रोत्साहित करने के बिना सम्भव नहीं हो पाता. संयोग से जान-पहचान, एक मासूम-सा नमस्कार, हम क्या करने की कोशिश कर रहे हैं, इस बारे में एक फुसफुसाहट; छोटे-से-छोटे कार्यकलापों ने हमें वह बनाया है जो आज हम हैं.

आभार हमारा मनोभाव

TEAM CWAT

  • जाग्रत देसाई – संस्थापक

    एक लेखक, निर्देशक, और विचारक, जागृत में मौलिक विचारों की भरमार है, जो असम्भव लगते हैं, लेकिन हमेशा कर पाने लायक होते हैं. उन्हें मानव जाति की और अधिक भलाई में उनके अटल विश्वास द्वारा परिभाषित किया जाता है.

  • हर्षित देसाई – संस्थापक

    हर सप देखने वाले के लिये एक कर्ता की आवश्यकता होती है. हर्षित हमारे मुख्य कार्यकर्ता हैं. वे जागृत के विचारों को लेते हैं, उन्हें विश्वसनीय लगने जैसा बनाते हैं, और फिर उन्हें एक वास्तविकता में बदल देते हैं.

  • भुवना वधावन – सह-संस्थापक

    देखा जाये तो भुवना क्वैट को सक्रिय रखती हैं. पीआर और प्रोडक्शन में उनकी पृष्ठभूमि के कारण, वे क्वैट की पोज़िशन और सस्टेनेबिलिटी इंचार्ज हैं.

  • पी.सी. मनोज कुमार – सह-संस्थापक

    मनोज का जीवन ‘लोक: समस्त: सुखीनो भवंतु’ है, दूसरों को खुशी देने के लिये. सही समय, स्थान, और कुछ कानों-सुनी बातें उन्हें क्वैट तक ले आयीं. सफल व्यवसायिक स्तम्भ / verticals बनाने का अनुभव उन्हें क्वैट की रीढ़ की एक हड्डी बनाती है.

  • तारंग चंदोला - सह-संस्थापक

    ‘If you think it, you can do it,” it’s Tarang’s personal motto that the whole CWAT team has adopted. He’s a man with a plan who wants to solve the various problems that plague the world.

  • अंकी भूतिया – सह-संस्थापक

    जब सपने देखने वाले इकट्ठे होते हैं, तो आपको आकार देने के लिये उस वजह को अभिव्यक्त करने की आवश्यकता होती है. अंकी, अपने व्यापक अनुभव के बल पर क्वैट को व्यवसाय की पहचान और परोपकारी आकार प्रदान करती हैं.

  • वरुण उदेशी - सह-संस्थापक

    वरुण का दृढ़ निश्चय और समर्पण न केवल अटल हैं, वे प्रेरणा भी देते हैं. क्वैट पर अपनी ऊर्जा को केंद्रित करने के लिये उन्होंने अपना प्रोडक्शन का पेशा छोड़ दिया, और एनजीओ आउटरीच & रिसर्च सम्भालते हैं.

  • शुभम देसाई – सह-संस्थापक

    कंप्यूटर में दिलचस्पी रखने वाले एक तथाकथित कलाप्रेमी, शुभम निरंतर रिसर्च करके, नये उपायों और ऐसी नई तकनीकी खोज करते हैं जो क्वैट को और अधिक बेहतर बना कर तकनीकी खेल में क्वैट को आगे रखते हैं.

  • क्युपिड

    क्युपिड, क्वैट टीम का जिगर का टुकड़ा. वह बड़ी शान से अपने पसंदीदा सोफे पर बैठ कर सबका एक ज़ोरदार ‘भौं-भौं’ के साथ स्वागत करता था. उसका जलवा हमेशा निशाने पर होता था, जो हर किसी को उससे मिलने के बाद एक पशु प्रेमी बना देता था. जब भी आपका दिन बहुत थकान-भरा बीतता था, आपको बस क्युपिड के एक आलिंगन और बड़े-से चुम्बन की ही ज़रूरत होती थी.

  • बो

    बो हमारी ‘राजकुमारी’ है. वह विनोदी, फोटोजेनिक और क्वैट टीम पर ध्यान से निगाह रखने वाली सदस्या है, और अपनी विभिन्न ताक-झाँक वाली जगहों से हमारी सुरक्षा का ध्यान रखती है. जब वह देखती है कि हमारी उत्पादनशक्ति / प्रोडक्टिविटी में उतार आया है, तो वह अपनी पसंदीदा गेंद हमारे पैरों पर लुढ़का कर अपनी अजीबोगरीब हरकतों से हमारा मिजाज़ तरोताज़ा कर देती है.

  • ऐरो

    ऐरो हमारा ‘टाइमकीपर’ है, यह सुनिश्चित कर लेता है कि टीम में हर एक को समय का पता हो और कभी-कभी हमें एक घण्टे पहले सूचित भी कर देता है. वह हमारे लैपटॉप के ऊपर बैठ कर हमारे कार्यों में सम्मिलित होना पसंद करता है और अपने संकेतों से सीधे हमारे मुँह पर म्याऊँ-म्याऊँ करता है.

क्वैट प्री-रजिस्ट्रेशन अब तक

1162

एक बेहतर भारत के निर्माण के लिये हमसे जुड़िये

क्वैट से संपर्क करें

 

हम आपसे सुनना चाहते हैं. कृपया सभी डिटेल भरें